lekhak: मनोज कचंगल

अमूर्त कला: मनोज कचंगल

क्या मूर्ति का निषेध अमूर्तन है ? ‘निर्गुण’ विचार और साहित्य के विषय तो रहे ही हीं. कला में स्थूल ...