विशेष

बुलडोज़र: कविताएँ (दो)

बुलडोज़र: कविताएँ (दो)

बीसवीं शताब्दी को प्रसिद्ध इतिहासकार एरिक हॉब्सबॉम ने अतियों का युग (The Age of Extremes) कहा है. 21वीं शताब्दी में अति विचारधारा है. इस अति के पहाड़ को तकनीक ने...

बुलडोज़र: कविताएँ

बुलडोज़र: कविताएँ

कविताएँ प्रतीकों का इस्तेमाल करती हैं, उन्हें बदल भी देती हैं और उनके सामने प्रतिरोध में खड़ी भी हो जाती हैं. आज बुलडोजर सिर्फ़ यंत्र नहीं है, वह सत्ता के...

कोरोना काल में चित्रकार: संयोजन राकेश श्रीमाल

कोरोना काल में चित्रकार: संयोजन राकेश श्रीमाल

आइडिया ऑफ़ समालोचन यह था/है कि यह निरी साहित्य की ही पत्रिका न रहे दूसरे सामाजिक अनुशासनों से भी संवादरत रहे और कला के दीगर माध्यमों से भी जुड़ी रहे....

मुस्लिम स्त्रियों की आत्मकथाएं : गरिमा श्रीवास्तव

मुस्लिम स्त्रियों की आत्मकथाएं : गरिमा श्रीवास्तव

प्रो. गरिमा श्रीवास्तव का शोध आलेख ‘चुप्पियाँ और दरारें’ मुस्लिम स्त्रियों की आत्मकथाओं का विस्तृत विश्लेषण विवेचन करता है, इनमें साहित्य, संस्कृति और राजनीति से जुड़ी प्रसिद्ध स्त्रियाँ भी शामिल...

नामवर के होने न होने के बीच

नामवर के होने न होने के बीच

भारतीय भाषाओँ में हिंदी आलोचना प्रभावशाली और विद्वतापूर्ण नामवर सिंह की वजह से है. आलोचना को अपने समय के साहित्य-सिद्धांत, विचारधारा और अद्यतन सामजिक  विमर्श से जोड़कर उन्होंने उसे विस्मयकारी...

विष्णु खरे: वह अंतिम आदमी

विष्णु खरे: वह अंतिम आदमी

कवि, आलोचक, अनुवादक, पत्रकार, संपादक और फ़िल्म कला मर्मज्ञ विष्णु खरे एक महान पाठक भी थे. उन्हें किसी नवोदित की कोई कविता पढ़कर उससे बात करने में कोई संकोच कभी...

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह