नृत्य

नाच रहा है बिरजू: सुमीता ओझा

नाच रहा है बिरजू: सुमीता ओझा

पंडित बिरजू महाराज पर के. मंजरी श्रीवास्तव का संस्मरणात्मक-आलेख आपने देखा- ‘मेरे बिरजू महाराज’. नृत्य प्रस्तुतियों को सहृदय किस तरह ग्रहण करते हैं और कैसे उनकी स्मृतियों में भंगिमाएं रच...

बिरजू महाराज: के. मंजरी श्रीवास्तव

बिरजू महाराज: के. मंजरी श्रीवास्तव

भारतीय नृत्य के प्रतीक कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज का पिछले दिनों 17 जनवरी (२०२२) को देहावसान हो गया. वह शिक्षक भी थे. ‘कलाश्रम’ से वह आजीवन कलाओं के संवर्धन...

शायद कि याद भूलने वाले ने फिर किया : पंकज पराशर

शायद कि याद भूलने वाले ने फिर किया : पंकज पराशर

जो कोठे कभी कला के आश्रय तथा केंद्र और स्त्रियों की  स्वाधीन के प्रक्षेत्र थे, उन्हें औपनिवेशिक शासन ने सिर्फ देह पर आश्रित रहने के लिए मजबूर कर दिया, उन्हें...

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह