पेंटिंग

काँगड़ा चित्रकला: प्रेम की उदात्त कला: शंपा शाह

काँगड़ा चित्रकला: प्रेम की उदात्त कला: शंपा शाह

    शिल्पकार शम्पा शाह का लोक और आदिवासी कलाओं पर आधारित लेखन भी महत्वपूर्ण हैं. काँगड़ा चित्र-शैली की विशेषताओं पर यह लेख बारीकी से उसकी विशेषताओं को उद्घाटित करता...

अमूर्त कला: मनोज कचंगल

क्या मूर्ति का निषेध अमूर्तन है ? ‘निर्गुण’ विचार और साहित्य के विषय तो रहे ही हीं. कला में स्थूल विषय तो न हो पर सौन्दर्य हो, ऐसा ख़ासकर शास्त्रीय...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (१२): अखिलेश

अखिलेश द्वारा लिखी यह श्रृंखला ‘रज़ा जैसे मैंने देखा’ इस कड़ी के साथ अब यहाँ सम्पूर्ण हुई, समालोचन में यह पिछले छह महीने से माह के पहले और तीसरे शनिवार...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (११): अखिलेश

रज़ा : जैसा मैंने देखा (११): अखिलेश

चित्रकार और लेखक अखिलेश द्वारा लिखित विश्व प्रसिद्ध चित्रकार सैयद हैदर रज़ा के जीवन और चित्रकारी पर आधारित स्तम्भ, ‘रज़ा जैसा मैंने देखा’ की यह ग्यारहवीं क़िस्त है. हमेशा की...

भूरीबाई: रूपकथा की आत्मकथा: अखिलेश

 भूरीबाई को इस वर्ष के पद्मश्री सम्मान दिए जाने की घोषणा के साथ ही उन्हें लेकर जिज्ञासा प्रकट की जाने लगी कि वे कौन हैं और उनका कार्यक्षेत्र क्या है...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (१०) : अखिलेश

सैयद हैदर रज़ा की कला और शख़्सियत पर आधारित अखिलेश का यह स्तम्भ ‘रज़ा: जैसा मैंने देखा’ धीरे-धीरे अपनी सम्पूर्णता की तरफ बढ़ रहा है. किसी मूर्धन्य चित्रकार को समझने...

विशेष आयोजन: कला के व्योम में शब्द और रंग

पेंटिंग देखकर कवियों ने कविताएँ लिखीं हैं, कविताएँ पढ़कर भी चित्र बनाये जाते हैं. कभी-कभी दोनों साथ-साथ भी रहते हैं. पतंगे वैसे तो उड़ती रहती हैं पर मकर संक्रांति के...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (९) : अखिलेश

 प्रसिद्ध चित्रकार सैयद हैदर रज़ा के जीवन और उनकी चित्रकला पर आधारित स्तम्भ ‘रजा: जैसा मैंने देखा’ पिछले कई महीनों से आप माह के पहले और तीसरे शनिवार को समालोचन पर...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (८) : अखिलेश

कलाओं के आपसी रिश्ते घनिष्ठ रहें हैं. संगीत से कविता का नाता आदि से अबतक अनवरत है. चित्र से कविता की यारी भी पुरानी है, भारतीय चित्रकला में इसकी पुष्ट...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (६ ) : अखिलेश

मूर्धन्य चित्रकार सैयद हैदर रज़ा पर अखिलेश द्वारा लिखे जा रहे ‘रज़ा : जैसा मैंने देखा’ का नवीनतम अंश प्रस्तुत है. अपनी पहली पत्नी से तलाक़ के बाद रज़ा ने...

Page 1 of 3 1 2 3

पठनीय पुस्तक

इस सप्ताह की किताब