संस्मरण

आज भी याद आते हैं नंदन जी: प्रकाश मनु

आज भी याद आते हैं नंदन जी: प्रकाश मनु

कन्हैयालाल नंदन (१ जुलाई,१९३३ - २५ सितम्बर,२०१०) अपने समय की कई महत्वपूर्ण पत्र-पत्रिकाओं से जुड़े हुए थे. धर्मयुग के सहायक संपादक, सारिका, दिनमान और पराग के संपादक, तथा साप्ताहिक संडे...

नाना जी: कुछ अनकहे क़िस्से:  उर्वशी कुमारी

नाना जी: कुछ अनकहे क़िस्से: उर्वशी कुमारी

हम अपने लेखकों के लेखक-व्यक्तित्व से परिचित होते हैं, उनका सामाजिक और पारिवारिक चेहरा भी होता है. वरिष्ठ आलोचक मैनेजर पाण्डेय २३ सितम्बर को ८० साल के हो रहें हैं,...

विष्णु खरे को याद करते हुए: प्रकाश मनु

विष्णु खरे को याद करते हुए: प्रकाश मनु

आज विष्णु खरे की तीसरी बरसी है. प्रकाश मनु का उनसे घनिष्ठ लगाव रहा है, उनके द्वारा विष्णु खरे का लिया गया साक्षात्कार हिंदी के कुछ अच्छे साक्षात्कारों में से...

कलकत्ते की याद और प्रियदर्शी प्रकाश: अशोक अग्रवाल

कलकत्ते की याद और प्रियदर्शी प्रकाश: अशोक अग्रवाल

साहित्य का भी तलघर होता है, जहाँ चेहरे नहीं होते, होते भी हैं तो धुंधले और स्मृतियों से कब के ओझल हो चुके होते हैं. वरिष्ठ कथाकार अशोक अग्रवाल का...

सुन्दरलाल बहुगुणा: पर्यावरणवादी का परिवार: प्रज्ञा पाठक

      गाँधीवादी और प्रसिद्ध पर्यावरणवादी सुन्दरलाल बहुगुणा जैसे लोग सदियों में तैयार होते हैं, उनपर किसी भी समाज और देश को गर्व होना चाहिए. इस कोरोना और उपचार...

लालबहादुर वर्मा: आखिरी पड़ाव और भविष्य में छलांग: विनोद शाही

लालबहादुर वर्मा से मेरा पहला परिचय उनकी क़िताब ‘यूरोप का इतिहास’ (पुनर्जागरण से क्रांति तक) से हुआ जब मैं १८ साल का ही था, इस पुस्तक को मैंने किसी उपन्यास...

जितेंद्र कुमार: खुद अपना एक दिलचस्प अपयश: अशोक अग्रवाल

जितेन्द्र कुमार (1936-2006) ने कहानियां लिखीं, कविताएँ लिखीं और एक लेखक का जीवन जिया. वे जब थे तब उन्हें विस्मय से देखा जाता था, आज उन्हें पढ़ते हुए अचरज होता...

नामवर सिंह : शिवमंगल सिद्धांतकर

नलिन विलोचन शर्मा, राजकमल चौधरी, गोरख पाण्डेय पर शिवमंगल सिद्धांतकार के संस्मरण आप पढ़ चुके हैं. यह श्रृंखला कथाकार ज्ञानचंद बागड़ी के सहयोग से प्रस्तुत की जा रही है.  ...

हरजीत के यार (१) : नवीन कुमार नैथानी और तेजी ग्रोवर

आज हरजीत (१९५९-१९९९) होते तो अपना ६२वां जन्म दिन अपने यारों के साथ मना रहे होते. इस मकबूल शायर और बेहतरीन कलाकार को जाने की जल्दी थी.हरजीत की कुछ ग़ज़लें...

Page 1 of 4 1 2 4

पठनीय पुस्तक

इस सप्ताह की किताब