संस्मरण

कमाल ख़ान: प्रीति चौधरी

कमाल ख़ान: प्रीति चौधरी

हर अच्छे इंसान का एक घर होता है चाहे वह बे-घर ही क्यों न हो जहाँ से उसे अच्छे बने रहने की शक्ति मिलती है. महबूब टीवी पत्रकार कमाल ख़ान...

अशोक वाजपेयी: विष्णु नागर

अशोक वाजपेयी: विष्णु नागर

जन्मतिथि संकेत है वहीं स्मृति का पृष्ठ भी, जहाँ पिछला सबकुछ लिखा होता है और आगत की उम्मीद का नया पन्ना खुलता है. अशोक वाजपेयी का जीवन हिंदी संस्कृति के...

योगेश प्रवीन: संतोष अर्श

योगेश प्रवीन: संतोष अर्श

लखनऊ की संस्कृति में रचे बसे और उसकी बुनावट के गहरे जानकार योगेश प्रवीन पर लिखते हुए संतोष अर्श ने शहर लखनऊ के ख़ास अंदाज़ को मूर्त कर दिया है....

दबंग गबरू और बदमाश किट्टू: सत्यदेव त्रिपाठी

दबंग गबरू और बदमाश किट्टू: सत्यदेव त्रिपाठी

संस्मरण लिख रहें हैं जिनमें से कुछ आपने समालोचन पर ही पढ़े हैं. प्रस्तुत संस्मरण दो पालतू कुत्तों पर हैं जिन्हें विवश होकर घर से बाहर निकालना पड़ा. घर में...

मंगलेश डबराल: तीन प्रसंग, दो पाठ: हरीश त्रिवेदी

मंगलेश डबराल: तीन प्रसंग, दो पाठ: हरीश त्रिवेदी

विश्व प्रसिद्ध आलोचक-अनुवादक हरीश त्रिवेदी का हिंदी साहित्य से गहरा नाता रहा है, वह हिंदी में भी लिखते रहें हैं. मंगलेश डबराल पर उनका यह संस्मरण आत्मीय तो है ही...

मेरी जेल डायरी: मनीष आज़ाद

मेरी जेल डायरी: मनीष आज़ाद

जेल की यातनाओं और अनुभवों पर प्रचुर मात्रा में देशी विदेशी भाषाओं में साहित्य मिलता है. नेताओं, क्रांतिकारियों, कार्यकर्ताओं और साहित्यकारों आदि को जब-जब जेल में डाला गया उन्होंने अपने...

पंकज सिंह या कि जैसे पवन पानी: अशोक अग्रवाल

पंकज सिंह या कि जैसे पवन पानी: अशोक अग्रवाल

कथाकार अशोक अग्रवाल की कवि पंकज सिंह से गहरी आत्मीयता थी, वह उनके जीवन और रचनाकर्म दोनों के सहभागी थे. इस संस्मरण में पंकज सिंह के दोनों पक्षों की चर्चा...

नानी वाली गइया: सत्यदेव त्रिपाठी

नानी वाली गइया: सत्यदेव त्रिपाठी

पशु-पक्षियों पर संस्मरण लिखे गये हैं,हालांकि वे कम हैं. वरिष्ठ लेखक और रंगमंचीय आलोचक सत्यदेव त्रिपाठी के पशुओं पर लिखे संस्मरण आपने समालोचन पर पढ़े हैं, अब यह संस्मरण ‘नानी...

काग़ज़, स्याही, बनारस और ज्ञानेन्द्रपति: अशोक अग्रवाल

काग़ज़, स्याही, बनारस और ज्ञानेन्द्रपति: अशोक अग्रवाल

वरिष्ठ कथाकार अशोक अग्रवाल के संस्मरण इधर सामने आये हैं और चर्चित भी हुए हैं, ज्ञानेन्द्रपति पर यह संस्मरण बनारस की पृष्ठभूमि में उन्हें देखता है, समझता है और जहाँ...

विनोद कुमार शुक्ल के मायने: रमेश अनुपम

विनोद कुमार शुक्ल के मायने: रमेश अनुपम

कवि, उपन्यासकार विनोद कुमार शुक्ल को इस वर्ष साहित्य अकादमी की ‘महत्तर सदस्यता’ प्रदान की गयी है, यह अकादमी का सर्वोच्च सम्मान है. विनोद कुमार शुक्ल के कुछ अनछुए आयामों...

Page 1 of 6 1 2 6

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह