समीक्षा

कथा के बदलते आयाम:  रमेश अनुपम

कथा के बदलते आयाम: रमेश अनुपम

सुपरिचित कथाकार तरुण भटनागर के कहानी संग्रह ‘प्रलय में नांव’ की समीक्षा कर रहें हैं- रमेश अनुपम. शीर्षक कहानी के साथ ‘क़ातिल की बीबी’ कहानी भी आप यहीं पढ़ सकते...

इतिहास, साहित्य एवं महामारी: सौरव कुमार राय

इतिहास, साहित्य एवं महामारी: सौरव कुमार राय

सेतु प्रकाशन से इसी वर्ष श्रीप्रकाश शुक्ल की प्रकाशित पुस्तक- ‘महामारी और कविता’ की विवेचना कर रहें हैं सौरव कुमार राय. इतिहास, साहित्य और महामारी के अंतर-सम्बन्धों पर कुछ रेखांकित...

एक देश बारह दुनिया: हरिराम मीणा

एक देश बारह दुनिया: हरिराम मीणा

दो दशकों से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय और अनेक पुरस्कारों से सम्मानित शिरीष खरे की ‘एक देश बारह दुनिया’ उनकी तीसरी किताब है, उनकी ‘तहक़ीकात’ और ‘उम्मीद की पाठशाला’...

खेला: वैश्विक पृष्ठभूमि में सत्ता का खेल:  प्रीति चौधरी

खेला: वैश्विक पृष्ठभूमि में सत्ता का खेल: प्रीति चौधरी

‘खेला’ कथाकार नीलाक्षी सिंह का दूसरा उपन्यास है जिसे सेतु प्रकाशन ने प्रकाशित किया है. कच्चे तेल की राजनीति से आतंक और हथियारों के वैश्विक खेल तक पसरे इस उपन्यास...

न लिखे को उद्घाटित करती यात्रा: चन्द्रकुमार

न लिखे को उद्घाटित करती यात्रा: चन्द्रकुमार

कवि-संपादक पीयूष दईया समकालीन परिदृश्य में अनूठे कवि हैं. कृष्ण बलदेव वैद ने उनकी कविताओं को नवाचारी, मौलिक और आला दर्जे की माना है और उनकी कविताओं की ‘संश्लिष्ट संवेदना’...

देह ही देश: मृत्यु की राजनीति: नरेश गोस्‍वामी

देह ही देश: मृत्यु की राजनीति: नरेश गोस्‍वामी

गरिमा श्रीवास्तव की क्रोएशिया प्रवास-डायरी ‘देह ही देश’ जब से प्रकाशित हुई है, चर्चा में है, बड़े स्तर पर इसने लेखकों और पाठकों का ध्यान खींचा है. कथाकार और समाज-वैज्ञानिक...

आशुतोष राना का रामराज्य: यतीश कुमार

आशुतोष राना का रामराज्य: यतीश कुमार

आशुतोष राना हिंदी सिनेमा के उन कुछ अभिनेताओं में से एक हैं जो हिंदी में लिखते और सोचते हैं, संजीदा कलाकार हैं. इधर उन्होंने एक पुस्तक लिखी है ‘रामराज्य’. इसकी...

नैना से पिशाच तक: भगवानदास मोरवाल

नैना से पिशाच तक: भगवानदास मोरवाल

उपन्यास सामाजिक अध्ययन की दृष्टि से बड़े काम के होते हैं, यहाँ तक कि जिन्हें हम ‘लोकप्रिय साहित्य’ कहते हैं उनकी भी गम्भीर विवेचनाएँ हुईं हैं. समाज के अंदर पसर...

कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिए: शंपा शाह

कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिए: शंपा शाह

अपने पहले ही उपन्यास- ‘कलि-कथा: वाया बाइपास’ (1998) से चर्चित अलका सरावगी महत्वपूर्ण उपन्यासकार हैं, इधर उनका नया उपन्यास ‘कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिए’ वाणी प्रकाशन से प्रकाशित हुआ है...

फासीवाद के ख़िलाफ़ प्रतिरोध की कविताएं: रमेश अनुपम

फासीवाद के ख़िलाफ़ प्रतिरोध की कविताएं: रमेश अनुपम

‘स्मृति एक दूसरा समय है’ मंगलेश डबराल का अंतिम कविता संग्रह है, सत्ता (ओं) से लड़ते हुए उनकी कविताएँ यहाँ अधिक मूर्त हुईं हैं. इस संग्रह की चर्चा कर रहें...

Page 1 of 11 1 2 11

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह