आलेख

भूमंडलोत्तर कहानी (११) : चौपड़ें की चुड़ैलें ( पंकज सुबीर) : राकेश बिहारी

हिंदी की प्रतिष्ठा प्राप्त कथा-पत्रिका हंस के अप्रैल २०१६ में प्रकाशित पंकज सुबीर की  कहानी \"चौपड़े की चुड़ैलें\" को २०१६ का \"राजेंद्र यादव हंस कथा सम्मान\" (योगिता यादव के साथ...

तोड़ती पत्थर (निराला): शिव किशोर तिवारी

तोड़ती पत्थर (निराला): शिव किशोर तिवारी

महाकवि निराला की प्रसिद्ध कविता ‘तोड़ती पत्थर’ के कई पाठ हुए (reading) हैं. दलित साहित्यकार कंवल भारती ने ‘श्याम तन,भर बंधा यौवन’ को लेकर सवाल उठाये और इसे पुरुष की लोलुप...

आकाशदीप ( जयशंकर प्रसाद): रोहिणी अग्रवाल

आकाशदीप ( जयशंकर प्रसाद): रोहिणी अग्रवाल

जयशंकर प्रसाद : (३० जनवरी, १८९० – १४ जनवरी, १९३७)/बीसवीं शताब्दी के महानतम साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जितने बड़े कवि हैं उतने ही बड़े नाटककार और कथाकार भी. अभी इतिहास की उनकी समझ...

भूमंडलोत्तर कहानी (१०) : कउने खोतवा में लुकइलू (राकेश दुबे) : राकेश बिहारी

  भूमंडलोत्तर कहानी विमर्श के अंतर्गत आपने ‘लापता नत्थू उर्फ दुनिया न माने’ (रवि बुले), ‘शिफ्ट+ कंट्रोल+आल्ट = डिलीट’ (आकांक्षा पारे), ‘नाकोहस’ (पुरुषोत्तम अग्रवाल), ‘अँगुरी में डसले बिया नगिनिया’ (अनुज), ‘पानी’...

कालजयी : पत्नी : रोहिणी अग्रवाल

पेंटिग : अमृता शेरगिल‘कालजयी’ स्तम्भ में आप प्रेमचंद की कहानी, ‘कफन’ पर रोहिणी अग्रवाल का आलेख पढ़ चुके हैं, इस क्रम को आगे बढ़ाते हुए आज जैनेन्द्र कुमार की कहानी...

कालजयी : कफ़न : रोहिणी अग्रवाल

कफ़न प्रेमचन्द की आखिरी कहानी है. यह मूल रूप में उर्दू में लिखी गयी थी. ‘जामिया मिल्लिया इस्लामिया’ की पत्रिका ‘जामिया’के दिसम्बर, १९३५ के अंक में यह प्रकाशित हुई, इसका...

नामवर सिंह की पुस्तक ‘कहानी नई कहानी’: राकेश बिहारी

पार्श्व में हजारीप्रसाद द्विवेदी : समालोचननामवर सिंह की आलोचना–पुस्तक ‘कहानी नयी कहानी’, हिंदी कहानी को समझने के लिए आधार-ग्रन्थ की तरह है. नामवर सिंह ने इसे एक दशक (१९५६-१९६५) की...

विनोद कुमार शुक्ल का कवि-कर्म: रवीन्द्र के. दास

फोटो साभार; शाश्वत गोयल   विनोद कुमार शुक्ल जितने बड़े उपन्यासकार हैं उतने ही बड़े कवि भी. विष्णु खरे ठीक ही कहते हैं-‘उनकीकविता वह जलप्रपात है जिसमें सबकी आवाज़ों का...

मनीषा कुलश्रेष्ठ : परम में उपस्थित वह अनुपस्थित

मनीषा कुलश्रेष्ठ के पाँच कहानी संग्रह (बौनी होती परछांई, कठपुतलियाँ, कुछ भी तो रूमानी नहीं, केयर ऑफ स्वात घाटी, गंधर्व – गाथा), तीन उपन्यास (शिगाफ़, शालभंजिका, पंचकन्या) और माया एँजलू...

प्रेम के असम्भव गल्प में: आशुतोष दुबे

प्रेम के असम्भव गल्प में: आशुतोष दुबे

‘प्रेम के असम्भव गल्प में’ कवि आशुतोष दुबे का लिखा गद्य है, उनकी कविताओं की ही तरह भाषा के सौन्दर्य और लयात्मकता से भरपूर. भाषा में लिखने की शुरुआत प्रेम...

Page 25 of 29 1 24 25 26 29

फ़ेसबुक पर जुड़ें

ADVERTISEMENT