Tag: ग़ालिब

दस्तंबू : सच्चिदानंद सिंह

महाकवि ग़ालिब का ‘दस्तंबू’ जिसे १८५७ के महाविद्रोह की डायरी कहा जाता है, अदब के लिहाज़ से मानीखेज़ तो है ...