lekhak: स्वप्निल श्रीवास्तव

स्वप्निल श्रीवास्तव की कविताएँ

कुछ कवि कविता में रहते-रहते खुद कविता की तरह लगने लगते हैं जैसे निराला, शमशेर, जैसे मुक्तिबोध जैसे आलोकधन्वा.स्वप्निल श्रीवास्तव ...

स्वप्निल श्रीवास्तव की कविताएँ

स्‍वप्निल श्रीवास्‍तवजन्‍म ५ अक्‍टूबर १९५४ को पूर्वी उ.प्र. के जनपद सिद्धार्थनगर के सुदूर गांव मेंहनौना में. शिक्षा और जीवन की ...