lekhak: फ़रीद ख़ाँ

फ़रीद ख़ाँ की कविताएँ

कोरोना, क्वारनटीन और लॉक डाउन ने समूचे विश्व को प्रभावित किया है,  रहने, देखने और सोचने में फ़र्क आया है. ...

जश्न ए दोस्ती की कविताएँ

‘फ़रियाद की कोई लय नहीं है नाला पाबंद-ए-नय नहीं है.’ (ग़ालिब)साहित्य कला है, वह आवाज़, पुकार और मशाल है. वह ...

फ़रीद ख़ाँ की कविताएँ

फरीद खान : 29 जनवरी 1975.पटना. पटना विश्वविद्यालय से उर्दू में एम. ए., इप्टा से वर्षों तक जुडाव.भारतेन्दु नाट्य अकादमी, लखनऊ ...