पेंटिंग

रज़ा : जैसा मैंने देखा (५ ) : अखिलेश

 प्रख्यात चित्रकार सैयद हैदर रज़ा पर आधारित श्रृंखला ‘रज़ा: जैसा मैंने देखा’ की इस कड़ी में अखिलेश ने उनके चित्रों की मूल विशेषता ‘दृश्य चित्रण’ को बताते हुए, फ़्रांस के...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (४) : अखिलेश

 आप चित्रकार और लेखक अखिलेश के सैयद हैदर रज़ा पर आधारित स्तम्भ ‘रज़ा जैसा मैंने देखा’नियमित रूप से समालोचन पर पढ़ रहें हैं. इस चौथे हिस्से में रज़ा के साथ...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (३) : अखिलेश

सुप्रसिद्ध चित्रकार सैयद हैदर रज़ा (२२ फरवरी,१९२२–२३ जुलाई, २०१६)के चित्रों में बिंदु और वृत्त की उपस्थिति से सम्मोहक आकर्षण पैदा होता है. उनके चित्रों और रंग-संयोजन पर चर्चा कर रहें...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (२) : अखिलेश

सुप्रसिद्ध चित्रकार सैयद हैदर रज़ा (२२ फरवरी,१९२२–२३ जुलाई, २०१६) के व्यक्तित्व, कृतित्व और स्मृतियों पर आधारित श्रृंखला ‘रज़ा : जैसा मैंने देखा’ के इस  दूसरे भाग में चित्रकार अखिलेश ने रज़ा...

रज़ा : जैसा मैंने देखा (१) : अखिलेश

समालोचन प्रसिद्ध चित्रकार सैयद हैदर रज़ा (२२ फरवरी,१९२२–२३ जुलाई, २०१६) पर आधारित श्रृंखला ‘रज़ा : जैसा मैंने देखा’ शुरू कर रहा है. चित्रकार और लेखक अखिलेश का यह  स्तम्भ रज़ा...

अखिलेश का रंग-रहस्य तथा कविताएँ : राकेश श्रीमाल

प्रसिद्ध चित्रकार अखिलेश (जन्म : २८ अगस्त, १९५६) हिंदी के समर्थ लेखक और अनुवादक भी हैं. मक़बूल फ़िदा हुसैन की जीवनी, मार्क शगाल की आत्मकथा का अनुवाद, तथा ‘अचम्भे का...

रज़ा स्मृति: वटवृक्ष और रंगों का बिखराव: उदयन वाजपेयी

सैयद हैदर रज़ा (२२ फरवरी १९२२ – २३  जुलाई २०१६) की आज  पुण्यतिथि है. एक महान चित्रकार और साहित्य का अनुरागी, हिंदी कविता से उनका रिश्ता प्रगाढ़ था. अब जब...

उस्ताद के क़िस्से मेरे हिस्से : विवेक टेंबे

उस्ताद के क़िस्से मेरे हिस्से : विवेक टेंबे

चित्रकार, कलाकार, विचारक और कवि जगदीश स्वामीनाथन (जून २१, १९२८ – १९९४) के शिष्य विवेक टेंबे ने अपने उस्ताद के संग-साथ को इधर लिखना शुरू किया है. यह संस्मरण अप्रतिम...

कोरोना काल में चित्रकार: संयोजन राकेश श्रीमाल

कोरोना काल में चित्रकार: संयोजन राकेश श्रीमाल

आइडिया ऑफ़ समालोचन यह था/है कि यह निरी साहित्य की ही पत्रिका न रहे दूसरे सामाजिक अनुशासनों से भी संवादरत रहे और कला के दीगर माध्यमों से भी जुड़ी रहे....

ख़ा मो श रामकुमार : अखिलेश

(Photo Credit S. Subramanium)“मेरे अन्दर एक तरह का नैरन्तर्य (रहता) है”(मरहूम चित्रकार ‘रामकुमार के साथ पीयूष दईया का संवाद’ से)    भारत के श्रेष्ठम अमूर्त चित्रकार (23 सितम्बर, 1924 – 14...

Page 2 of 3 1 2 3

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह