नाटक

बंसी कौल: सत्यदेव त्रिपाठी

बंसी कौल: सत्यदेव त्रिपाठी

थियेटर के लिए पद्मश्री से सम्मानित वंशी कौल (23 August 1949 – 6 February 2021) की संस्था ‘रंग विदूषक’ (भोपाल) नाटकों में अपने नवाचार के लिए विश्व विख्यात थी. कैंसर...

गिरीश कारनाड: रंजना मिश्र

गिरीश कारनाड: रंजना मिश्र

शब्दों की अपनी स्वायत्त सत्ता है, ये दीगर सत्ता केन्द्रों के समक्ष अक्सर प्रतिपक्ष में रहते हैं. शब्दों ने बद्धमूल नैतिकता पर चोट की है उसे खोला है, धर्म की...

जबलपुर का नाट्योत्सव : सत्यदेव त्रिपाठी

साहित्य, कला और संस्कृति के क्षेत्र में बहुत से प्रतिबद्ध लोग और समूह वर्षो से सतत क्रियाशील हैं. जोड़, जुगत और जुगाड़ से ‘येन केन प्रकारेण’ सबकुछ हासिल कर लेने...

बेगूसराय में रंगोत्सव : सत्यदेव त्रिपाठी

जिस नगर में कुछ अच्छे कवि-शायर, थोड़े से कथाकार कुछ सुनने लायक बौद्धिक जनवादी विचारक, विवेकवान पत्रकार तथा एकाध नाट्य समूह और थोड़े से कलावंत न हों वहाँ नहीं निवास...

बंदिश : २० से २०००० हर्ट्ज : रवींद्र त्रिपाठी

बंदिश : २० से २०००० हर्ट्ज : रवींद्र त्रिपाठी

पूर्वा नरेश के निर्देशन में मंचित नाटक ‘बंदिश  : २०  से २०००० हर्ट्ज’  ने कला मर्मज्ञों का ध्यान अपनी ओर खींचा है. इसके रंगमंचीय,  सामाजिक और राजनीतिक मन्तव्य पर रवींद्र...

आशुतोष दुबे की कविताएँ

आशुतोष दुबे की कविताएँ

आज विश्व रंगमंच दिवस है, यह प्रतिवर्ष २७ मार्च को मनाया जाता है, इस दिन एक अंतरराष्ट्रीय रंगमंच संदेश भी दिया जाता है. १९६२ में पहला संदेश फ्रांस के ज्यां...

सत्यदेव दुबे: सत्यदेव त्रिपाठी

सत्यदेव दुबे: सत्यदेव त्रिपाठी

सत्यदेव दुबे किसी परिचय के मोहताज़ नहीं हैं. श्याम बेनेगल के ‘भारत एक खोज’ में चाणक्य की उनकी भूमिका को आज भी याद किया जाता है. इसके साथ ही वह...

Page 2 of 2 1 2

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह