समीक्षा

विष्णु खरे: एक दुर्जेय मेधा: ब्रजेश कृष्ण

विष्णु खरे: एक दुर्जेय मेधा: ब्रजेश कृष्ण

ब्रजेश कृष्ण प्राचीन इतिहास, संस्कृति और पुरातत्व के अध्येता, विद्वान हैं और हिंदी के कवि भी. अपने इस आलेख को उन्होंने प्रकाश मनु की किताब ‘एक दुर्जेय मेधा: विष्णु खरे’...

ईश्वर के बीज: विचार और स्वप्न: शंपा शाह 

ईश्वर के बीज: विचार और स्वप्न: शंपा शाह 

विनोद शाही की ख्याति आलोचक-विचारक की है. इधर किसान आन्दोलन की वैचारिकी से सम्बन्धित उनके कई आलेख प्रकाशित हुए हैं. ‘ईश्वर के बीज’ उनका उपन्यास है जिसे इसी वर्ष (२०२१)...

क़यास के बारे में कुछ क़यास: ख़ालिद जावेद

क़यास के बारे में कुछ क़यास: ख़ालिद जावेद

कवि, कथाकार, संपादक, अनुवादक तथा पेशे से चिकित्सक और अध्यापक उदयन वाजपेयी का उपन्यास ‘क़यास’ २०१९ में राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित हुआ है. इस उपन्यास पर उर्दू के इस समय...

ख़ानज़ादा: एक भूली-बिसरी विरासत: विजय बहादुर सिंह

ख़ानज़ादा: एक भूली-बिसरी विरासत: विजय बहादुर सिंह

किसी ऐतिहासिक औपन्यासिक कृति पर समीक्षात्मक आलेख दो स्तरों पर उस कृति को देखता है, उसमें कहाँ तक इतिहास है और वह उपन्यास की अपनी प्रविधि में क्या सफलतापूर्वक ढल...

ऋत्विक घटक की कहानियाँ : चंद्रकिरण राठी और श्रद्धा श्रीवास्तव

ऋत्विक घटक की कहानियाँ : चंद्रकिरण राठी और श्रद्धा श्रीवास्तव

भारतीय फ़िल्म निर्देशकों में ऋत्विक घटक (4 नवम्बर, 1925 - से 6 फ़रवरी, 1976) का महत्वपूर्ण स्थान है. उन्होंने बांग्ला में कुछ कहानियाँ भी लिखीं हैं, जिनमें से सात का अनुवाद...

बाकी बचे कुछ लोग (अनिल करमेले): कैलाश बनवासी

अनिल करमेले अपनी कल्पनाशील कविता पोस्टरों से आजकल दिन की शुरुआत करते हैं,कविता को उसके पाठकों तक पहुंचाने का यह भी सार्थक उद्यम है. उनका कविता-संग्रह ‘बाकी बचे कुछ लोग’...

आवाज़ को आवाज़ न थी (पारुल पुखराज): अनिरुद्ध उमट

प्रयोगधर्मी आख्यान- ‘नींद नहीं जाग नहीं’ के बाद कवि अनिरुद्ध उमट की क़िताब ‘वैदानुराग’ इधर प्रकाशित हुई है. उमट आत्मीय और संवेदनशील गद्य लिखते हैं. अनिरुद्ध उमट  का कवयित्री पारुल पुखराज...

नया रास्ता (हरे प्रकाश उपाध्याय): राकेश मिश्र

‘खिलाड़ी दोस्त तथा अन्य कविताएँ’ के बारह साल बाद हरे प्रकाश उपाध्याय का यह दूसरा कविता-संग्रह- ‘नया रास्ता’ रश्मि प्रकाशन से छप कर आया है. इसकी चर्चा कर रहें हैं...

Betrayed By Hope :पत्रों में माइकल मधुसूदन दत्त: रेखा सेठी

माइकल मधुसूदन दत्त (१८२४-१८७३) बांग्ला कविता में मुक्त छंद के प्रणेता रहे हैं, और इसका असर हिंदी में भी पड़ा. प्रारम्भिक हिंदी साहित्य बांग्ला साहित्य से बहुत प्रभावित था यहाँ...

कौन हैं भारत माता ? (पुरुषोत्तम अग्रवाल) : आनंद पाण्डेय

 ‘‘हम हिन्दुस्तानियों को सुदूर और प्राचीन की तलाश में देश के बाहर नहीं जाना है, उसकी हमारे पास बहुतायत है. अगर हमें विदेशों में जाना है तो वह सिर्फ वर्तमान की...

Page 2 of 10 1 2 3 10

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह