कविता

आशुतोष दुबे की कविताएँ

आशुतोष दुबे की कविताएँ

आशुतोष दुबे की कविताओं में शिल्प का सौष्ठव और कहन की बारीकी देखते बनती है. उनका पाँचवाँ कविता संग्रह ‘सिर्फ़ वसंत नहीं’ सूर्य प्रकाशन मंदिर, बीकानेर से प्रकाशित हुआ है....

हेमंत देवलेकर की कविताएँ

हेमंत देवलेकर की कविताएँ

हेमंत देवलेकर बहुमुखी व्यक्तित्व रखते हैं. अभिनय, संगीत, नाट्य लेखन, रंग-कर्म, कविताएँ आदि उनके क्षेत्र हैं. युवा रचनाकारों की अचूक पहचान और उनकी मदद भी उनके व्यक्तित्व का एक सराहनीय...

विशाखा मुलमुले  की कविताएँ

विशाखा मुलमुले की कविताएँ

हिंदी और मराठी का गहरा नाता है एक तो दोनों की लिपि देवनागरी है, फिर प्रारम्भिक खड़ी बोली हिंदी ने मराठी और बांग्ला साहित्य के अनुवादों से अपने को खूब...

अम्बर पाण्डेय की कविताएँ

अम्बर पाण्डेय की कविताएँ

पृथ्वी से सूर्य की दूरी पर इस धरा का अस्तित्व निर्भर है. दूरी बढ़ी तो जीवन बर्फ़ और घटी तो रेत. अस्तित्व अतिरेक से बच कर ही संभव है- चाहे...

केशव तिवारी की नदी-केंद्रित कविताएँ

केशव तिवारी की नदी-केंद्रित कविताएँ

जिनके पास कोई नदी नहीं, वे अ-भागे हैं, जिन्होंने अपनी नदियों को नष्ट कर दिया है वे अपराधी कहलाये जाएंगे. नदी प्रार्थनाओं में, कामनाओं में, दिनचर्या में बहती रही है....

अच्युतानंद मिश्र की कविताएँ

अच्युतानंद मिश्र की कविताएँ

कवि-आलोचक अच्युतानंद मिश्र की इन नयी कविताओं में उदासी और निराशा का व्यक्तिगत से अधिक कालगत सन्दर्भ है. यह इस समय का स्थायी भाव है. यह शोक काल है. कवि...

प्रिया वर्मा की कविताएँ

प्रिया वर्मा की कविताएँ

हिंदी कविता में युवा स्त्री स्वर यौनिकता को लेकर सचेत है और मुखर भी. देखना यह होता है कि कविता के शिल्प में ये आवाज़ें किस तरह ढल रहीं हैं....

विजय शंकर की कविताएँ: गगन गिल

विजय शंकर की कविताएँ: गगन गिल

साहित्य एवं कला की पत्रिका ‘क’ के संपादक विजय शंकर को दुनिया जानती है. क्या कवि विजय शंकर से हम परिचित हैं? पिछले साल 9 अप्रैल, 2021 को दिल्ली के...

बुलडोज़र: कविताएँ (दो)

बुलडोज़र: कविताएँ (दो)

बीसवीं शताब्दी को प्रसिद्ध इतिहासकार एरिक हॉब्सबॉम ने अतियों का युग (The Age of Extremes) कहा है. 21वीं शताब्दी में अति विचारधारा है. इस अति के पहाड़ को तकनीक ने...

अविनाश मिश्र की कविताएँ

अविनाश मिश्र की कविताएँ

कविताओं के कथ्य और शिल्प में जब बदलाव सामूहिकता में लक्षित हों तब उसे नये नाम से पुकारने की जरूरत पड़ती है हालाँकि इस सामूहिकता में प्रत्येक कवि की अपनी...

Page 2 of 30 1 2 3 30

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह