Tag: 2022

प्रदीप सैनी की कविताएँ

प्रदीप सैनी की कविताएँ

"कभी कभी आत्मा में धँसी सिर्फ़ एक पंक्ति कहने को/लिखता हूँ पूरी कविता " जैसे बीज में वृक्ष रहता है. ...

आमिर हमज़ा की कविताएँ

आमिर हमज़ा की कविताएँ

मूर्तिकार अपने शिल्प में डूबा हुआ ख़ुद में डूब जाता है. रचनात्मकता भी अध्यात्म है. सृजनात्मक लोगों को अलग से ...

नागरिक समाज: विवेक निराला

नागरिक समाज: विवेक निराला

बसंत त्रिपाठी का नया कविता संग्रह ‘नागरिक समाज’ अभी-अभी सेतु प्रकाशन से छप कर आया है. इधर के कविता संग्रहों ...

Page 1 of 12 1 2 12