आलोचना

मीरां: विमर्श के नए दौर में: रेणु व्यास

मीरां: विमर्श के नए दौर में: रेणु व्यास

आलोचक-अध्येता माधव हाड़ा की चर्चित कृति ‘मीरां का जीवन और समाज’ का अंग्रेजी अनुवाद ‘Meera vs Meera’ शीर्षक से प्रदीप त्रिखा ने किया है जिसे वाणी ने प्रकाशित किया है. इसकी...

परती परिकथा की पहेली: प्रेमकुमार मणि

परती परिकथा की पहेली: प्रेमकुमार मणि

रेणु की ख्याति में उनके उपन्यास ‘मैला आँचल’ और उनकी कुछ कहानियों की केन्द्रीय भूमिका है. मैला आँचल के समानांतर उनके दूसरे उपन्यास ‘परती परिकथा’ की चर्चा उसके प्रकाशन से...

कविता का बदलता बोध: अच्युतानंद मिश्र

कवि-आलोचक अच्युतानंद मिश्र वैचारिक आलोचनात्मक आलेख लिखते रहें हैं, पश्चिमी विचारकों पर उनकी पूरी श्रृंखला है जो समालोचन पर भी है और जो अब ‘बाज़ार के अरण्य में’ (उत्तर-मार्क्सवादी चिंतन...

निराला: चेतना का स्त्री-पक्ष: रजनी दिसोदिया

महाकवि निराला ने कविताओं के साथ-साथ कहानियाँ और उपन्यास भी लिखे हैं,  उनके साहित्य को समग्रता में देखते हुए रजनी दिसोदिया ने निराला की स्त्री-चेतना की पड़ताल की हैदेखें आप.   ...

समय और साहित्य (विजयमोहन सिंह ): शीतांशु

विजयमोहन सिंह (1 जनवरी, 1936-25 मार्च, 2015) ने कहानियां लिखीं,उपन्यास लिखे, पत्रिकाओं का संपादन किया, उनका आलोचनात्मक लेखन भी विस्तृत है. उनकी पुस्तक ‘समय और साहित्य’ (२०१२) के माध्यम से...

अनामिका: कविता का मानवीय राग: रेखा सेठी

 हिन्दी में साहित्य अकादमी पुरस्कार अनामिका को उनके कविता संग्रह ‘टोकरी में दिगंत- थेरी गाथा: 2014’ के लिए दिया गया है, निर्णायक समिति में थे- श्रीमती चित्रा मुद्गल, प्रो. के....

सूरदास के भ्रमरगीत प्रसंग का पाठ–पुनर्पाठ: माधव हाड़ा

कवि सूरदास के साहित्य में वात्सल्य और श्रृंगार के साथ-साथ सगुण और निर्गुण के द्वंद्व का तीखा बोध है, इसके साथ ही उनके काव्य-संसार में उनका समय भी बोलता है....

रामविलास शर्मा का अर्थशास्त्रीय चिंतन: रविभूषण

रामविलास शर्मा का अर्थशास्त्रीय चिंतन: रविभूषण

हिंदी में अर्थशास्त्रीय चिंतन की परम्परा क्षीण ही रही, इस दिशा में डॉ. रामविलास शर्मा ने महत्वपूर्ण कार्य किया हालाँकि उनकी इस विषय पर कोई स्वतंत्र किताब नहीं है लेकिन...

पंकज सिंह की कविता: राजाराम भादू

कवि पंकज सिंह की कविताओं पर लिखते हुए आलोचक राजाराम भादू उन प्रसंगों को भी याद करते हैं जिनमें ये कविताएँ आकार ले रहीं थीं, आठवें दशक की जयपुर की...

मैनेजर पाण्डेय: भक्तिकाल की पुनर्व्याख्या की आवश्यकता: विनोद शाही

मैनेजर पाण्डेय: भक्तिकाल की पुनर्व्याख्या की आवश्यकता: विनोद शाही

आलोचक प्रो. मैनेजर पाण्डेय की भक्तिकाल की आलोचना दृष्टि पर यह आलेख प्रसिद्ध आलोचक विनोद शाही का है. उन्होंने गम्भीर सवाल खड़े किये हैं जो कि बड़े बहस को आमंत्रित...

Page 2 of 6 1 2 3 6

फ़ेसबुक पर जुड़ें

पठनीय पुस्तक/ पत्रिका

इस सप्ताह